Home / Breaking News / रुड़की: नामी ब्रांड की नकली दवाइयां हो रही हैं तैयार , ड्रग्स विभाग सोया, दवा माफिया सक्रिय

रुड़की: नामी ब्रांड की नकली दवाइयां हो रही हैं तैयार , ड्रग्स विभाग सोया, दवा माफिया सक्रिय

अलग-अलग राज्यों में धड़ल्ले से की जा रही सप्लार्ई

मोहम्मद तहसीन , रुड़की। कई राज्यों में पकड़ी गयी नकली दवाइयों की बड़ी खैप के बाद जनपद हरिद्वार का नाम आने से सतर्क हुआ स्थानीय ड्रग्स विभाग फिर से निष्क्रिय हो गया है। जिसके चलते नकली दवाइयों के कारोबार से जुड़े धंधेबाज फिर से अपने कारोबार को अंजाम देने लगे हैं। जनपद के अलग-अलग क्षेत्रों में स्थापित कईं दवाई कम्पनियों की आड़ में देश की नामी-गिरामाी दवाई कम्पनियों के ब्रांड तैयार कर माफिया अलग-अलग राज्योंं में सप्लाई कर रहे हैं। कम्पनियों के आसपास बसने वाले गांव के कईं ऐसे लोग भी धंधे से जुड़ गये हैं जो दवाइयों को मात्र सप्लाई करने का कार्य कर रहे हैं। उक्त दवाइयां राज्य के साथ-साथ देश के साथ ही विदेशों तक में सप्लाई की जा रही हैं।
गौरतलब है कि करीब एक वर्ष पूर्व राजस्थान के जयपुर में वहां के स्थानीय ड्रग्स विभाग ने एक गोदाम पर छापामार कार्रवाई करते हुए नकली दवाइयों की करोड़ों रुपये की बड़ी खैप पकड़ी थी। जांच के दौरान जनपद हरिद्वार की कई कम्पनियों के नाम सामने आये थे। उत्तरांचल दीप ने राजस्थान में पकड़ी गई दवाइयों की खैप के बाद स्थानीय कई कम्पनियों की पड़ताल करते हुए खबरें प्रकाशित की थीं। जिसके बाद भी स्थानीय ड्रग्स विभाग की नींद नहीं खुली थी। राजस्थान की टीम यहां जांच के लिये पहुंची तो स्थानीय विभाग जागा। कई कम्पनियों में पड़ताल करने के बाद दो कम्पनियों से भारी मात्रा में नकली दवाइयों का जखीरा पकड़ में आया था। करीब आधा दर्जन धंधेबाजों को जेल की सलाखों की पीछे भेजा गया था। उस समय सतर्क हुए माफिया कुछ दिनों बाद फिर धंधे से जुडऩे लगे थे। पिछले दिनों स्थानीय ड्रग्स विभाग ने एक बार फिर ताबड़तोड़ कई कम्पनियों में छापामार कार्रवाई तो की थी। लेकिन कार्रवाई क्या सामने आया था ये सार्वजनिक नहीं हो सका। भगवानपुर क्षेत्र में तो एक ऐसी कम्पनी सामने आयी थी, जो एक वर्ष पूर्व कैंसिल हुए लाइसेंस पर ही संचालित हो रही थी। छापामारी के दौरान विभाग ने यहां तैयार हो रही दवाइयों को जब्त किया था। लेकिन कुछ दिनों बाद ही उक्त कम्पनी फिर से संचालित हो गयी थी। जो आज भी बदस्तूर जारी है। राजस्थान में पकड़ी गयी दवाइयों की बड़ी खैप के बाद स्थानीय ड्रग्स विभाग द्वारा की गयी बड़ी कार्रवाई के बाद कोई ऐसी कार्रवाई नहीं की गयी है। ये ही वजह है कि इस कारोबार से जुडे धंधेबाज फिर से सक्रिय हो गये हैं और देश के अलग-अलग राज्यों के साथ ही विदेशों तक में नकली दवाइयों के साथ नशे की दवाइयां भेजी जाने लगीं हैं।

 

 

मुरादाबाद में पकड़ी गयी थी बड़ी खैप

मंगलवार को एक फिर उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में नकली दवाइयों के अवैध कारोबार का वहां के स्थानीय ड्रग्स विभाग ने भांडाफोड़ किया है। विभाग ने छापामार कार्रवाई करते हुए करीब एक करोड़ रुपये की दवाइयों के सैम्पल जब्त किये हैं। बताया जा रहा है कि प्राथमिक जांच में जनपद हरिद्वार की दवाई कम्पनियों से उक्त दवाइयों को लाया गया है। इससे पहले भी राजस्थान के जयपुर से गत वर्ष पकड़ी गयी नकली दवाइयों में जनपद की कम्पनियों का नाम आया था। एक बार फिर मुरादाबाद में पकड़ी गयी दवाइयों में जनपद हरिद्वार की कम्पनियों का नाम सामने आ रहा है।

 

 

फर्नीचर कारोबारी भी धंधे से है जुड़ा

भगवानपुर क्षेत्र का एक फर्नीचर कारोबारी नकली दवाइयों के धंधे से जुड़ा हुआ है। बताया जा रहा है कि मुरादाबाद में उक्त फर्नीचर कारोबारी द्वारा ही दवाइयां सप्लाई की गयी हैं। फर्नीचर कारोबारी क्षेत्र में बनी कईं कम्पनियों से नकली दवाइयां तैयार कराकर मुरादाबाद समेत अलग-अलग राज्यों के कई शहरों में दवाइयां सप्लाई कर रहा है।

About saket aggarwal

Check Also

तराई-भाबर में निजी बसों का संचालन पूरी तरह ठप

केमू की हड़ताल का तीसरा दिन, समर्थन में आये कुमाऊं भर के निजी बस संचालक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *