Home / Breaking News / निर्भया गैंगरेप केस के सभी दोषियों की फांसी की सजा बरकरार, एससी ने खारिज की याचिका

निर्भया गैंगरेप केस के सभी दोषियों की फांसी की सजा बरकरार, एससी ने खारिज की याचिका

नई दिल्ली (एजेंसी)। साल 2012 में दिल्ली में हुए निर्भया गैंगरेप केस में सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है। इस केस के चार आरोपियों में से तीन की याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज करते हुए उनकी फांसी की सजा बरकार रखी है। फैसले से पहले निर्भया का परिवार अपने वकील के साथ कोर्ट में पहुंचा था। निर्भया के माता-पिता ने कड़ी से कड़ी सजा देने की अपील की थी।
– निर्भया की मां आशा देवी ने कहा, हमारा संघर्ष अभी खत्म नहीं हुआ है। इंसाफ मिलने में देरी हो रही है। इससे समाज की अन्य पीडि़ताएं प्रभावित होती हैं। दोषियों को जल्द से जल्द फांसी पर लटकाना चाहिए, ताकि निर्भया को न्याय मिल सके।
– निर्भया के परिवार के वकील रोहन महाजन ने कहा, यह हमारे लिए विजयी क्षण है। हम फैसले से संतुष्ट हैं। केंद्र सरकार से अनुरोध है कि वह आगे की प्रक्रिया को यथाशीघ्र पूरा करे, ताकि हमें इंसाफ जल्द से जल्द मिल सके।
– दोषियों की फांसी की सजा बरकार। विनय, मुकेश और अक्षय को होगी फांसी।
– जस्टिस अशोक भूषण ने कहा, आपराधिक मामलों में रिव्यू तभी संभव है, जब कानून में कोई स्पष्ट गलती हो।
– पुनर्विचार याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज।
– निर्भया के माता-पिता और वकील कोर्ट रूम में पहुंचे।

निर्भया के गुनहगार, जिन्हें होगी फांसी की सजा
मुकेश सिंह- मुकेश सिंह बस का क्लीनर था। वारदात की रात वह भी बस में सवार था। गैंगरेप के बाद मुकेश ने निर्भया और उसके दोस्त को बुरी तरह पीटा था। वह अभी तिहाड़ जेल में बंद है।

विनय शर्मा- विनय पेशे से फिटनेस ट्रेनर था। वारदात के वक्त वह बस चला रहा था। विनय भी तिहाड़ जेल में कैद है। राम सिंह के खुदकुशी करने के बाद उसने भी जेल के भीतर आत्महत्या की कोशिश की थी, लेकिन बच गया।

अक्षय ठाकुर- बिहार का रहने वाला अक्षय ठाकुर अपनी पढ़ाई छोडक़र घर से भागकर दिल्ली आ गया था। यहां उसकी दोस्ती राम सिंह से हुई थी। उसके सहारे वह फल बेचने वाले पवन गुप्ता से भी घुल-मिल गया था। अक्षय ठाकुर भी तिहाड़ जेल में कैद है। अक्षय ने सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर नहीं की थी।

पवन गुप्ता- पवन गुप्ता दिल्ली में फल बेचने का काम करता था। 16 दिसंबर को गैंगरेप के समय यह भी अपने दोस्तों के साथ उस बस में मौजूद था। पवन भी तिहाड़ जेल में बंद है। वह जेल में रहकर ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर रहा है।

About saket aggarwal

Check Also

रुद्रपुर:किशोरी प्रेमी संग पुलिस हिरासत में

रुद्रपुर। कोतवाली पुलिस ने संदिग्धवस्था में घर से गायब किशोरी को प्रेमी के संग रोडवेज …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *