Breaking News
Home / Breaking News / नैनीताल : पहाड़ों में ओलों की बरसात से फसलों को पहुंचा नुकसान, तापमान धड़ाम
नैनीताल में ओलावृष्टि के दौरान मकान में गिरा देवदार का वृक्ष,  ओलावृष्टि के बाद सडक़ों पर बिछी ओलों की परत, सडक़ों में बिछी ओलों की परत को साफ करती जेसीबी मशीन, शनिवार की सुबह वर्षा के दौरान इस तरह रहा मौसम।

नैनीताल : पहाड़ों में ओलों की बरसात से फसलों को पहुंचा नुकसान, तापमान धड़ाम

नैनीताल। बीते दिन से शनिवार को भी पहाड़ों में वर्षा व ओलावृष्टि के कारण जन जीवन अस्त-व्यस्त है। तापमान में भारी गिरावट आ गई है। शुक्रवार की रात से यहां लगातार वर्षा हो रही है। वर्षा के दौरान वीकेंड को नैनीताल पहुंचे सैलानी होटलों में दुबके रहे। यहां रूक-रूक कर वर्या होती रही इस दौरान पहाडिय़ों में कोहरा भी छाया रहा। बीते 24 घंटों में यहां 16 मिमी वर्षा रिकार्ड की गई है। बीते दिनों से हो रही ओलावृष्टि से पहाड़ों में फसलों को नुकसान पहुंचने की सूचनाएं मिल रही है। रामगढ़, धारी, कोटाबाग, ओखलकांडा, बेतालघाट व भीमताल में बीते दिनों से हो रही ओलावृष्टि से काश्तकारों को नुकसान पहुंचा है। मौसमी सब्जियों को नुकसान पहुंचा है। अलबत्ता रबी की फसल व बागवानी के लिए वर्षा लाभकारी मानी जा रही है। मौसम विभाग के अनुसार अगले 24 घंटों में मौसम का मिजाज ऐसा ही बना रहेगा। 18 फरवरी को फिर मौम अपने तेवर बदलेगा। सरोवर नगरी नैनीताल में बीते दिन जमकर हुई ओलावृष्टि से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। नगर के निचले क्षेत्रों में भले ही कम ओले गिरे लेकिन ऊंचाई वाले क्षेत्रों में काफी मात्रा में ओलावृष्टि हुई। ओलावृष्टि के बाद नगर में बारिश होने से एकाएक ठंड में इजाफा हो गया। ओलावृष्टि की वजह से नगर में जाम लग गया। नगर की माल रोड समेत सभी प्रमुख मार्गो में जाम लगने की वजह से वाहन चालकों के साथ ही राहगीरों को भी भारी फजीहत उठानी पड़ी। जो ओले गिरे वह देर शाम तक सडक़ों में जमे रहे दूर से ओलावृष्टि का नजारा बिल्कुल हिमपात की तरह ही दिख रहा था। कुल मिलाकर शुक्रवार को हुई ओलावृष्टि से नगर में काफी परेशानियां भी बढ़ गई। एक ओर जहां ठंड में तो इजाफा हुआ ही जबकि जाम के दौरान वाहनों को निकालने की होड़ में कई वाहन पिचक भी गए जिसमें पर्यटक वाहनों की संख्या भी अधिक है। मौसम का अगर यही मिजाज रहा तो देर रात तक नगर में हिमपात भी हो सकता है। नगर के हाईकोर्ट को जाने वाले मोटर मार्ग, बारापत्थर, स्नोव्यू, बारापत्थर समेत कई स्थानों में जहां पर मुख्य मार्गो में काफी मात्रा में ओले गिरे थे तथा लोगों को आने-जाने में परेशानी हो रही थी वहां पर लोनिवि की ओर से जेसीबी की मदद से मुख्य मार्गो में पटे ओलों को हटाया गया। जेसीबी की ओर से मार्गो से ओले हटाने का क्रम देर शाम तक जारी रहा। नैनी झील नियंत्रण कक्ष के प्रभारी रमेश सिंह के मुताबिक झील का जलस्तर पांच फीट सात इंच से बढक़र पांच फीट साढ़े आठ इंच पहुंच चुका है। यहां न्यूनतम तापमान चार डिग्री व अधिकतम तापमान 12 डिग्री सेल्सियस व आर्द्रता अधिकतम 86 व न्यूनतम 66 प्रतिशत रिकार्ड किया गया।

 

 

 
सुरई का विशालकाय पेड़ मकान में गिरने से छत क्षतिग्रस्त
नैनीताल। नगर में अपराह्न दो बजे के बाद तेज आंधी तूफान व ओलावृष्टि के दौरान मल्लीताल पंत सदन में न्यायमूर्ति न्यायाधीश आलोक सिंह के आवास के पीछे रहने वाले हाईकोर्ट के कर्मी उमेश पाल तथा मीर आलम की छत के ऊपर सुरई का विशालकाय पेड़ गिर गया जिसकी वजह से छत पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गयी। सूचना मिलने पर नैनीताल नगर पालिका वन रेंज के वन क्षेत्राधिकारी प्रमोद कुमार तिवारी के नेतृत्व में वन दरोगा हीरा सिंह शाही व वन रक्षक विमला राठौर समेत रेंज के कई अन्य कर्मियों के बाद वन निगम तथा अग्निशमन विभाग के कर्मी मौके पर पहुंच गए। पेड़ को हटा दिया गया।

About saket aggarwal

Check Also

हल्द्वानी : फूड प्वाइजनिंग से एक ही परिवार के 10 लोगों की हालत बिगड़ी

हल्द्वानी। फूड प्वाइजनिंग से एक ही परिवार के 10 लोगों की हालत बिगड़ गई। इन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *