Home / Uttatakhand Districts / Dehradun / राज्य में पर्वतीय विकास पार्टी का गठन

राज्य में पर्वतीय विकास पार्टी का गठन

गैरसैंण राजधानी बनाने को चलेगा चिट्ठी अभियान
देहरादून। प्रदेश में नगर निगम चुनाव से पहले क्षेत्रीय दल उत्तराखंड पर्वतीय विकास पार्टी का गठन किया गया है। पार्टी के नवनियुक्त अध्यक्ष विजय कुमार बौड़ाई ने शनिवार को इसकी घोषणा की। उन्होंने कहा कि पार्टी को व्यापक स्तर पर मजबूत बनाने के लिए सदस्यता अभियान चलाया जाएगा। पलायन रोकने के लिए व्यापक स्तर पर जनजागरण अभियान चलाया जाएगा और गैरसैंण को प्रदेश की स्थाई राजधानी बनाये जाने के लिए चि_ी अभियान की शुरूआत की जाएगी।
शनिवार को दून के एक रेस्टोरेंट में पार्टी की घोषणा करने के बाद पत्रकारों से बातचीत मे विजय कुमार बौडाई ने कहा है कि गिरीश चन्द ईस्टवाल व नारदा नंद बलूनी को पार्टी का संरक्षक, एसडी पंत को संयोजक, प्रहलाद सिंह बिष्ट को वरिष्ठ उपाध्यक्ष, गिरीश चन्द्र मैन्दोला को उपाध्यक्ष, जगमोहन सिंह असवाल को महासचिव, मनोज कुमार मिश्रा को सचिव, दुरेन्द्र सिंह रावत को कोषाध्यक्ष, कैलाश चन्द्र जोशी को मीडिया प्रभारी, रतन सिंह राणा को सह मीडिया प्रभारी, संदीप ढौंडियाल व जितेन्द्र डंगवाल को संगठन मंत्री बनाया गया है।
उन्होंने कहा कि राज्य का निर्माण विशेष रूप से पहाडों के विकास एवं सुदूर क्षेत्र तक जरूरी सुविधाओं को जन-जन तक पहुचाने के उद्देश्य से हुआ। उत्तराखंड की जनता के कड़े संघर्ष के परिणाम स्वरूप राज्य की प्राप्ति हुई है। लेकिन, हमारे निर्वाचित जनप्रतिनिधियों की अदूरदर्शिता एवं प्रतिबद्धता की कमी तथा दोनों प्रमुख राष्ट्रीय राजनीतिक पार्टियों की उदासीनता के कारण राज्य की जनता को जो मिलना चाहिए था, वह नहीं हो सका। पहाड़ से पलायन एक गम्भीर समस्या बन गयी है। बढ़ती बेरोजगारी, ससाधनों की लूट, भ्रष्टाचार युक्त राजनीतिक अराजकता, विकास के नाम पर लूट, राजनेताओं एवं नौकरशाही का गठजोड राज्य के लिये अभिषाप बन चुके हंै। इससे अधिक दुर्भाग्य पूर्ण स्थिति और क्या होगी कि एक राज्य 17 वर्षो से अपनी स्थाई राजधानी तय नहीं कर पाया है। सत्ता मे चाहे भाजपा रही हो या कांग्रेस, किसी भी पार्टी ने पर्वतीय राज्य की अवधारणा को साकार करने के लिये ईमानदार कोशिश नहीं की गई। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड पर्वतीय विकास पार्टी प्रदेश के लिये पार्टी एक दूरगामी विकास की नीति बनायेगी। राज्य में यह एक सशक्त विकल्प देने तथा प्रदेश का परिदृश्य बदलने व उत्तराखंड के राजनीतिक पटल पर एक नयी राजनीतिक सम्भावना को खड़ा करने का प्रयास इस पार्टी के माध्यम से किया जाएगा। इस अवसर पर वार्ता में गिरीश चन्द ईस्टवाल, नारदा नंद बलूनी, एसडी पंता, प्रहलाद सिंह बिष्ट, गिरीश चन्द्र मैन्दोला, जगमोहन सिंह असवाल, मनोज कुमार मिश्रा, कैलाश चन्द्र जोशी आदि भी मौजूद थे।

About madan lakhera

Check Also

माइक्रोसॉफ्ट कायझाला ने 1000 से अधिक संस्थानों को दी मजबूती

भरोसेमंद सुरक्षा के साथ उत्पादकता की सुविधाएं माइक्रोसॉफ्ट कायझाला अब 18 भाषाओं में उपलब्ध देहरादून। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *