Breaking News
Home / Breaking News / पटुवाडांगर में फिल्म सिटी पर एक बार फिर मुहर लगी
देहरादून में चल रहे इनवेस्टर समिट में शामिल नैनीताल के फिल्मकार सुर्दशन साह।

पटुवाडांगर में फिल्म सिटी पर एक बार फिर मुहर लगी

चन्द्रेक बिष्ट/नैनीताल। देहरादून में चल रहे इन्वेस्टर समिट में नैनीताल के पटुवाडांगर में फिल्म सिटी बनाने के लिए एक बार फिर मुहर लग गई है। फिल्म इन्वेस्टर समिट में फिल्म सैंसर बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी व काबिना मंत्री यशपाल आर्य ने पटुवाडांगर में फिल्म सीटी बनाने के लिए हामी भर दी है। इस समिट में फिल्म विकास परिषद के पूर्व सदस्य व अनामिका फिल्म नैनीताल के अध्यक्ष सुदर्शन साह को भी आमंत्रित किया गया था। वह लम्बे समय से पटुवाडांगर में फिल्म सीटी बनाने के लिए प्रयासरत थे। इस समिट में उन्होंने आज तक किये गये सरकारी प्रयासों की जानकारी भी दी। समिट में तय किया गया है कि बाहर से आने वाले फिल्मकारों को फिल्म निर्माण के लिए गढ़वाल व कुमाऊं में फिल्म सिटी का निर्माण किया जायेगा। नैनीताल के पटुवाडांगर में फिल्म सिटी बनाने के प्रयास पूर्व से ही किये जा रहे हैं। मालूम हो कि पूर्व सूचना महानिदेशक डॉ. पंकज पांडे की ओर से इसी वर्ष के आरंभ में जारी आदेशों के बाद उत्तराखंड फिल्म विकास परिषद को भंग करने के आदेशों के बाद कुमाऊं के नैनीताल स्थित पटवाडांगर में फिल्म सिटी बनाने के प्रयासों को भी झटका लगा था। 2016 में हरीश रावत सरकार द्वारा गठित इस समिति के प्रस्ताव पर ही पटवाडांगर में फिल्म सिटी बनाने की घोषणा की थी। इस समिति के पदेन अध्यक्ष सीएम होते हंै जबकि इस परिषद में जाने माने फिल्म अभिनेता हेमंत पांडे व गढ़वाल के श्रीकृष्ण नौटियाल को उपाध्यक्ष बनाया गया था। इसके अलावा एक दर्जन से अधिक लोग इसके सदस्य बनाये गये थे। बाद में उत्तराखंड फिल्म विकास परिषद को भंग कर दिया गया था। इसके बावजूद परिषद ने भविष्य में कुमाऊं के नैनीताल स्थित पटवाडांगर में फिल्म सिटी बने इसके लिए महत्वपूर्ण कार्य किये। परिषद के पूर्व सदस्य सुदर्शन साह ने बताया कि बीते दिन देहरादून में आयोजित फिल्म इन्वेस्टर समिट में फिल्म सैंसर बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी व काबिना मंत्री यशपाल आर्य ने पटवाडांगर में फिल्म सिटी बनाने के लिए हामी भर दी है। अब भूमि हस्तान्तरण का कार्य किया जायेगा। नैनीताल के अलावा गढ़वाल में भी फिल्म सिटी बनाने के प्रयास किये जायेंगे। समिट में फिल्म निर्माण के साथ ही फिल्मकारों को सरकारी सुविधा देने पर भी चर्चा की गई।

 

 
सभी ने कहा था पटवाडंागर को ही बनायेंगे फिल्म सिटी
नैनीताल। उत्तराखंड फिल्म विकास परिषद् के पूर्व उपाध्यक्ष हेमंत पांडे व श्रीकृष्ण नौटियाल सहित सभी सदस्यों ने नैनीताल के निकट स्थित 103 एकड़ में फैली पटवाडांगर संस्थान का एक वर्ष पूर्व निरीक्षण करने के बाद कहा था कि कुमाऊं की फिल्म सिटी बनाये जाने के पूरे प्रयास किये जायेंगे। नैनीताल के निकट पटवाडांगर में 103 एकड़ सरकारी भूमि व 50 से अधिक भवन हंै। इस समय यह सम्पत्ति पंतनगर विश्वविद्यालय के पास है। मूल में यह सम्पत्ति स्वास्थ्य विभाग की है जो इस समय वीरान पड़ी है। यहां करोड़ों की संपत्ति बर्बाद हो रही है। यह क्षेत्र फिल्म अवस्थापना व फिल्म निर्माण के लिए उपयुक्त ही नहीं बल्कि प्राकृतिक सौन्दर्य से भरा पड़ा है। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत द्वारा पटवाडांगर में फिल्म सिटी स्थापना की घोषणा के बाद बोर्ड द्वारा निरंतर प्रयास किया जा रहा था लेकिन अधिकारियों ने इसमें बड़ी बाधा पहुंचाई। अब समिट में चर्चा के बाद फिल्म सिटी बनाने का रास्ता फिलहाल प्रशस्त होता दिखाई दे रहा है।

 

 
अधिकारियों ने भी किया था निरीक्षण
नैनीताल। सरकार के आदेशों के बाद सर्वप्रथम 2016 में सीडीओ व निदेशक पर्यटन व उप निदेशक सूचना इस क्षेत्र का निरीक्षण कर चुके हैं। 17 दिसम्बर 2016 को पुन: सीडीओ ने भी पटवाडांगर का निरीक्षण किया। उप निदेशक पर्यटन जेसी बेरी ने भी पटवाडांगर का निरीक्षण कर कहा था कि क्षेत्र आदर्श फिल्म सिटी बन सकता है। इसके अलावा उत्तराखंड फिल्म विकास परिषद के पूर्व उपाध्यक्ष हेमंत पांडे ने भी इसका निरीक्षण किया। उत्तराखंड फिल्म विकास परिषद के पूर्व सदस्य सुदर्शन साह का कहना है कि पटवाडांगर को फिल्म सिटी बनाने में एक लॉबी विरोध कर रही थी लेकिन भविष्य में पटवाडांगर को फिल्म सिटी बनाने के लिए कार्य किया जायेगा। इससे यहां रोजगार के नये रास्ते खुलेंगे। देहरादून में आयोजित समिट में विस्तार से चर्चा की गई है।

About saket aggarwal

Check Also

किच्छा:भाजपा नेत्री के साथ मारपीट के मामले में महिलाओं ने कोतवाली घेरी

किच्छा। भाजपा नेत्री के साथ हुई मारपीट के मामले में दर्जनों महिलाओं ने पुलिस प्रशासन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *