Home / Breaking News / रुद्रपुर:पीएम की ‘आकांक्षा’ पर खरा उतरें

रुद्रपुर:पीएम की ‘आकांक्षा’ पर खरा उतरें

रुद्रपुर। जनपद ऊधमसिंह नगर भारत के 115 एस्पिरेशनल (आकांक्षात्मक) जिलों में चुना गया है। प्रदेश में जनपद ऊधमसिंह नगर व हरिद्वार को इस श्रेणी मे रखा गया है क्योंकि जनपद स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में पिछड़ा है। इस संबंध में जिले में किये जा रहे कार्यों की समीक्षा केंद्र सरकार के सूक्ष्म मंत्रालय में आर्थिक सलाहकार (वित्त) डीपीएस नेगी ने की। उन्होंने कहा नीति आयोग द्वारा भारत के 115 जिलों को आकांक्षात्मक जिलों में चुना गया है। उन्होंने कहा इस कार्य की मॉनीटरिंग प्रधानमंत्री द्वारा स्वयं की जा रही है। उन्होंने कहा जनपद जिन क्षेत्रों में पिछड़ा है उसमें कैसे सुधार लाया जा सकता है, इस पर जनपद स्तर से ठोस रणनीति बनाई जाए। उन्होंने कहा जहां पर समस्याएं आयेंगी, समस्याओं के समाधान हेतु उन्हें भारत सरकार तक पहुंचाया जायेगा। उन्होंने कहा जनपद के विकास हेतु हम छोटे-छोटे उद्योगों को बढ़ावा दे सकते हंै। अधिक से अधिक लोगों को रोजगार से जोडऩा भारत सरकार का प्रथम लक्ष्य है। उन्होंने बताया प्रधानमंत्री स्वरोजगार सृजन योजना के अन्तर्गत जनपद को जो भी लक्ष्य मिलेंगे, उन्हें समय से पूर्ण कराया जायेगा। उन्होंने कहा उद्योगपतियों ने आज जो समस्याएं बतायी हैं, उन्हें भी दूर करने के पूरे प्रयास किये जायेंगे। उन्होंने कहा जनपद में कौशल विकास को बढ़ावा देने के लिए अधिक से अधिक कैंपो का आयोजन किया जाए। डीएम डा. नीरज खैरवाल ने बताया जिले को शिक्षा व स्वास्थ्य के क्षेत्र में आगे ले जाने हेतु विशेष रणनीति तैयार की गई है। उन्होंने कहा जिले में प्रत्येक परिवार का डाटाबेस तैयार करने हेतु एएनएम, आशा व आंगनबाड़ी कार्यकत्री तीनों साथ मिलकर प्रत्येक परिवार का सर्वे कर रही है। इसके लिए एक फार्मेट तैयार किया गया है। उन्होंने बताया नीति आयोग द्वारा विकास मापन हेतु निर्धारित चिकित्सा एवं न्यूट्रीशियन, शिक्षा, कृषि एवं जल श्रोत, वित्तीय समावेश, कौशल विकास एवं बुनियादी स्ट्रक्चर एवं सभी 81 बिन्दुओं पर गहनता से कार्य करने के लिए ठोस रणनीति तैयार की गई है। जिलाधिकारी ने बताया मेरा गांव मेरा गौरव के अन्तर्गत गांव के चहुमंखी विकास हेतु हर न्याय पंचायत स्तर पर पांच विशेषज्ञों की टीम बनाई गई है जिसमें कृषि, पशुपालन, उद्यान विभागो को साथ पंतनगर विश्वविद्यालय के वैज्ञानिको को भी चयनित किया गया है ताकि किसानों को जागरूक कर उन्हें इंटीग्रेटेड फार्मिंग की ओर जागरूक किया जा सके।
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी आलोक कुमार पाण्डेय, भारत सरकार के सहायक निदेशक एमसी कांडपाल, खादी ग्रामोद्योग के एमएस राणा, सीएमओ डा. शैलजा भट्ट, पीडी हिमांशु जोशी, मुख्य कृषि अधिकारी डा. अभय सक्सेना, डीडीओ अजय सिंह, जिला उद्यान अधिकारी डा. रामेश्वर सिंह सहित समस्त जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

About saket aggarwal

Check Also

मुख्यमंत्री की प्रतिष्ठा से सीधे जुड़ा दून मेयर सीट का चुनाव

मदन मोहन लखेड़ा, देहरादून। निकाय चुनाव की जंग में बीजेपी ने अपने अधिकृत प्रत्याशियों को लेकर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *