Breaking News
Home / Breaking News / अपनी ही सरकार पर सवाल खड़े करने के बीच राष्ट्रीय अध्यक्ष शाह से मिले चैम्पियन

अपनी ही सरकार पर सवाल खड़े करने के बीच राष्ट्रीय अध्यक्ष शाह से मिले चैम्पियन

रुड़की। जिला पंचायत की राजनीति को लेकर चल रही उठा-पटक के बीच अपनी ही सरकार पर सवाल खड़े करने वाले खानपुर विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैम्पियन गत दो दिन पूर्व अपने दिये गये वक्तव्य के अनुसार परिवार सहित पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मिले। उन्होंने राज्य सरकार अथवा मंत्रियों को लेकर क्या-क्या शिकायतें की है इसकी तो जानकारी नहीं मिल पायी। अलबत्ता उन्होंने राष्ट्रीय अध्यक्ष से मुलाकात की फोटो अपनी फेसबुक वॉल पर डालते हुए मिशन सक्सेसफुल लिखा है। दो दिन बीत जाने के बावजूद उनके मिशन का कोई असर नजर नहीं आया है। जिला पंचायत की संचालन समिति में जिस सदस्य को लेकर वे नाराज हैं, वह अभी तक संचालन समिति में शामिल हैं। आने वाले दिनों में देखना दिलचस्प होगा कि चैम्पियन जिस सदस्य से नाराज है उसे वे बाहर कराने समेत अपने उठाये गये मुद्दों में कामयाब होंगे या नहीं।
गौरतलब है कि करीब दो माह पूर्व जिला पंचायत अध्यक्षा किसान आयोग के अध्यक्ष चैधरी राजेंद्र सिंह की भाभी सविता चैधरी को राज्य सरकार ने भ्रष्टाचार के आरोपों में बर्खास्त करते हुए तीन सदस्य संचालन समिति का गठन किया था। जिसमें खानपुर विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैम्पियन की पत्नी रानी देवयानी, पूर्व विधायक हाजी मोहम्मद शहजाद के भाई सत्तार अली के अलावा अमिलाल वाल्मीकि को शामिल किया था। यू ंतो इस समिति पर गठन के बाद से ही सवाल खड़े हो रहे थे। क्योंकि जिला पंचायत को ही लेकर पूर्व से शहजाद व कुंवर प्रणव के बीच राजनैतिक खाई गहरी है। लेकिन चैधरी राजेंद्र सिंह से दोनों की राजनैतिक बदले की भावना चली आ रही है। जिसमें हाजी शहजाद को सविता चैधरी के निलंबन के बाद यह तसल्ली थी कि उन्होंने पूर्व में अपनी भाभी अंजुम बेग को कांग्रेस की सरकार के समय जिला पंचायत की कुर्सी से हटवाने का बदला ले लिया। वहीं कुंवर प्रणव को यह तसल्ली थी कि सत्ता में पार्टी होने के चलते उन्हें संचालन समिति में पूरा मौका मिलने के साथ ही कुर्सी भी उनके हाथ में आ सकती है। लेकिन इस पर थोडे से ही समय के बाद पानी फिर गया। सत्तार को लेकर कुंवर प्रणव सिंह चैम्पियन इतने नाराज हुए कि कईं आरोप लगाते हुए उन्होंने सत्तार के खिलाफ तहरीर तक दे दी। कुंवर प्रणव सिंह की माने तो उन्होंने राज्य सरकार को भी अगवत कराया कि जिस शख्स को संचालन समिति में शामिल किया गया है उसकी भाभी पूर्व में जिला पंचायत के भ्रष्टाचार के आरोपों में पद से हटाई जा चुकी है। इन सभी हालात के बीच कुंवर प्रणव सिंह चैम्पियन मीडिया के सामने आये और उन्होंने राज्य सरकार पर हमला बोलते हुए सरकार में सबकुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा जैसे आरोप लगाये। साथ ही उन्होंने राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह व प्रधानमंत्री से मिलने की बात कही गत दो दिन पूर्व वे राष्ट्रीय अध्यक्ष से मिले। जिसमें माना जा रहा है कि उन्होंने अपनी नाराजगी की बाबत राष्ट्रीय अध्यक्ष को अवगत कराया होगा। राष्ट्रीय अध्यक्ष से मुलाकात के बाद अपनी फेसबुक वॉल पर राष्ट्रीय अध्यक्ष से मुलाकात की फोटो वायरल करते हुए उन्होंने लिखा मिशन सक्सेसफुल। लेकिन अभी तक इसका असर देखने को नहीं मिला है। सत्तार भी संचालन समिति में शामिल है। जिस भ्रष्ट अधिकारी को हटाने के लिये दुग्ध संघ मंत्री व मुख्यमंत्री से मिलकर वे हटवाना चाहते थे अब राष्ट्रीय अध्यक्ष से भी मिल चुके हैं। उन्हें भी नहीं हटाया गया है। राष्ट्रीय अध्यक्ष से मुलाकात का असर कब तक देखने को मिलेगा इस बाबत इतनी आसानी से कुछ कहा नहीं जा सकता है। पूर्व सरकार में भी कुंवर प्रणव सिंह चैम्पियन इस तरह के सवाल उठाते रहे।

 

पूर्व विधायक के भाई  को घेरना उतना भी आसान नही
अपनी सरकार पर उठाये गये सवालों को लेकर राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मिले विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैम्पियन को कामयाबी मिलना उतना भी आसान नहीं है, जितना उनके मिशन सक्सेसफुल लिखने से लग रहा है। जिला पंचायत संचालन समिति में शामिल सत्तार अली के भाई पूर्व विधायक हाजी मोहम्मद शहजाद भले ही राजनीतिक लिहाज से हाशिए पर हों, इसके बावजूद जनपद के एक काबिना मंत्री से उनकी नजदीकियां जगजाहिर हैं। कुंवर प्रणव सिंह भी काबिना मंत्री पर सवाल खड़े कर चुके हैं। ऐसे में कुंवर प्रणव सिंह चैम्पियन जिला पंचायत को लेकर सक्सेसफुल हो जाये वे इतना आसान नहीं है। बहुगुणा सरकार में स्व. काबिना मंत्री सुरेंद्र राकेश को भी चैम्पियन ने घेरने का प्रयास किया था। लेकिन उन्हें कामयाबी नहीं मिली थी। हालांकि उस समय सरकार बसपा की बैसाखी पर टिकी हुई थी। लेकिन चैम्पियन साहब को समझना होगा कि अब हालात दूसरे हैं। क्योंकि भाजपा में कांग्रेस की तरह अपनों की बगावत करना उतना आसान नहीं है जितना कि कांग्रेस में था।

 

बयान से संघटन का रुख सख्त,नोटिस की तैयारी
सरकार के खिलाफ सार्वजनिक बयान देने से भाजपा संगठन का रुख सख्त हो गया है। संगठन की तरफ से विधायक प्रणव चैंपियन को कारण बताओ नोटिस भेजा जा रहा है। विधायक चैंपियन के हाईकमान से शिकायत के बाद मंगलवार को सरकार और प्रदेश संगठन में हलचल रही। चैंपियन ने चार दिन पहले मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत के समक्ष अपनी बात रखी थी । तब मुख्यमंत्री ने उनकी समस्या सुनकर चैंपियन के विधानसभा क्षेत्र के लंबित विकास कार्यों को शुरू करने की मंजूरी दी थी, लेकिन चैंपियन इससे भी संतुष्ट नहीं हुए। सूत्रों ने बताया कि विधायक चैंपियन के इस कदम से प्रदेश भाजपा संगठन खफा है।

About saket aggarwal

Check Also

बरेली:लालकुआं से झांसी के लिये विशेष गाड़ी का होगा संचालन

बरेली। रेल प्रशासन द्वारा ग्रीष्मकाल में यात्रियों की भारी भीड़ को देखते हुये यात्रियों की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *