Home / Breaking News / अर्शा के बयान को गंभीरता से क्यों नहीं ले रही पुलिस ?

अर्शा के बयान को गंभीरता से क्यों नहीं ले रही पुलिस ?

हल्द्वानी। पूनम हत्याकांड मामले में घायल अर्शा का जो वीडियो वायरल हुआ है उसमें वह तीन युवतियों के नाम स्पष्ट रूप से लेते सुनाई दे रही है, बावजूद इसके पुलिस ने अब तक इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की है। इस मामले में पुलिस अर्शा के बयान देने की स्थिति में आने की बात कह रही थी, ऐसे में अर्शा का वीडियो वायरल होने के बाद भी आखिर अब इस मामले का पुलिस खुलासा क्यों नहीं कर रही है। यह मामला अब पुलिस के लिए ही उल्टा पड़ता दिखाई दे रहा है।
बता दें कि मंडी पुलिस चौकी क्षेत्र के अंतर्गत गोरापड़ाव चौराहे से कुछ ही दूरी पर रहने वाले लक्ष्मी दत्त पांडे की पत्नी पूनम पांडे व पुत्री अर्शा पांडे पर हमलावरों ने 27 अगस्त की रात उस समय धारदार हथियार से हमला कर दिया था जब वह घर पर सो रही थी। इससे पूनम की मौत हो गई थी जबकि अर्शा बुरी तरह घायल हो गई। उसका निजी चिकित्सालय में उपचार चल रहा है। इस मामले की जांच एसटीएफ को सौंपी गई, लेकिन वह भी इसका खुलासा नहीं कर पाई। हाईकोर्ट के निर्देश पर जांच एसआईटी को सौंपी गई। बीते दिवस घायल अर्शा का अस्पताल में साथी युवक का पूछताछ करने का वीडियो वायरल होने से खलबली मच गयी थी। इस मामले में कार्रवाई के नाम पर पुलिस अधिकारियों ने बीते दिवस एसआईटी टीम में शामिल एलआईयू दरोगा आरती पोखरियाल को हटा दिया था। जो वीडियो वायरल हुआ है उसमें अर्शा यह कहते हुए सुनाई दे रही है कि उसने निहारिका नामक युवती के कहने पर दरवाजा खोला था। इसके अलावा वह प्रिया चौधरी व सिमरन नामक युवतियों से इस बारे में पूछताछ करने की बात कह रही है। यहां बता दें कि इस मामले में पुलिस घायल अर्शा के बयान देने की स्थिति में आने के बाद हत्यारों को गिरफ्तार करने की बात कह रही थी। लेकिन अब अर्शा का जो वीडियो वायरल हुआ है उसमें वह तीन युवतियों का नाम ले चुकी है बावजूद इसके पुलिस इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। इसके अलावा वीडियो में यह भी स्पष्ट रूप से कहते सुनाई दे रहा है कि पुलिस उसकी बात पर विश्वास नहीं कर रही है। ऐसे में पुलिस की कार्यप्रणाली सवालों के घेरे में आती है। आखिर वह तीनों युवतियां कौन है जिनका अर्शा वीडियो में नाम लेते सुनाई दे रही है, कहीं ऐसा तो नहीं कि पुलिस इन तीनों युवतियों को बचाने का प्रयास कर रही है।

 

 
पुलिस के रवैये पर उठ रहे सवाल
पुलिस के सामने ऐसी क्या वजह रही है कि अब तक वह अर्शा के बयानों को गलत साबित करने का प्रयास कर रही है। वीडियो अब तकरीबन हर शख्स के पास पहुंच चुका है। जिस तरह से वीडियो वायरल किया गया है उससे यह भी स्पष्ट हो गया है कि पुलिस घायल अर्शा के प्रति कतई गंभीर व चिंतित नहीं है। एक ओर पुलिस अर्शा को पूर्ण सुरक्षा देने की बात कह रही है, वहीं दूसरी ओर पुलिस सुरक्षा के बीच उसका वीडियो वायरल हो जाता है। साथ ही वीडियो में स्पष्ट रूप से युवतियों का नाम लेने के बाद भी उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जाती है। कहीं ऐसा तो नहीं पुलिस इसी तरह की किसी अन्य घटनाओं के और घटित होने का इंतजार कर रही है।

About saket aggarwal

Check Also

रुद्रपुर: नजूल मुद्दे पर प्रदर्शन को ऐतिहासिक बनाने की तैयारियां

रुद्रपुर। बस्ती बचाओ संघर्ष समिति द्वारा एक अक्टूबर को प्रस्तावित प्रदर्शन की तैयारियां जोर-शोर से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *