Home / Uttatakhand Districts / Almora / केंद्र सरकार 70 लाख नई नौकरियों का करेगी सृजन : अजय टम्टा

केंद्र सरकार 70 लाख नई नौकरियों का करेगी सृजन : अजय टम्टा

अल्मोड़ा। केंद्रीय कपड़ा राज्य मंत्री अजय टम्टा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की योजनाओं की सबसे बड़ी उपलब्धि तो यह है कि आज देश के भीतर हर व्यक्ति अपने को सुरक्षित महसूस कर रही है। उन्होंने कहा कि हर घर तक बिजली-गैस का कनेक्शन देना सरकार की प्राथमिकता में है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार देश में बेरोजगारी की समस्या को देखते हुए रोजगार के क्षेत्र में 70 लाख नई नौकरियां निकालने की तैयारी में है।
यहां भाजपा कार्यालय में आयोजित प्रेस वार्ता मंे केंद्रीय मंत्री ने प्रधानमंत्री की योजनाओं की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि जनधन बीमा खाते के माध्यम से हर व्यक्ति को बीमा से जोड़ने का काम किया है। पेंशन योजना से बुढ़ापे में लोगों को सहायता दी है। उजाला गैस कनेक्शन के माध्यम से 5 करोड़ पहले व आठ करोड़ के लक्ष्य को अब पूरा किया जा रहा है। सामान्य बजट 2018 मंे किसान, गरीब, वृद्धा, युवा सभी की सुविधाओं का ध्यान रखा गया है। स्वास्थ्य के क्षेत्र मंे भी आयुषमान भारत के माध्यम से प्रधानमंत्री ने 5 लाख की स्कीम लांच की है। हर तीन किमी में मेडिकल कालेज की स्कीम पर काम किया है। नेशनल हैल्थ प्रोडेक्शन स्कीम लागू की गई है। उर्जा के क्षेत्र में 18 हजार गांव, जो बिना बिजली के थे उनमें से 17 हजार गांवों को बिजली से जोड़ दिया गया है। उजाला स्कीम के तहत 28 करोड़ एलईडी प्रदान की गई है। जिससे सरकार की बिजली बची है। हवाई पट्टी के माध्यम से नई उड़ानें चलाने का निर्णय लिया गया है। नैनीसैनी हवाई पट्टी के माध्यम से जनपद पिथौरागढ़ भी लाभान्वित होगा। रोजगार के क्षेत्र में 70 लाख नौकरियां तैयार हांेगी। जिस पर काम चल रहा है। कामगार भविष्य निधि में 12 प्रतिशत का केंद्र सरकार योगदान देगी। गरीब, मजदूर को सुरक्षित प्रोविडेंट फंड का लाभ मिलेगा। टैक्सटाइल क्षेत्र में 7 हजार 148 करोड़ रूपये प्रधानमंत्री ने रिलीज किया है, जिससे नये लोगों को इस उद्योग में रोजगार मिलेगा। आॅल वेदर रोड अंतर्गत टनकपुर से लेकर पिथौरागढ़ तक सड़क निर्माण का कार्य लिपुलेख दरिये तक काम जारी है, जो कि पिथौरागढ़ का अंतिम छोर है। भारत माता योजना के तहत कर्णप्रयाग से बैजनाथ तक तथा बैजनाथ से बागेश्वर, मुनस्यारी होते हुए जौलजीवी तक की एक सड़क बनाई जा रही है। अस्कोट से लेकर लिपुलेख तक सड़क निर्माण का कार्य चल रहा है। 10 हजार करोड़ की लाग से इस सड़क का निर्माण हो रहा है। उन्होेंने कहा कि यूपीए सरकार के दौरान पीएमजीएसवाई योजना के तहत एक दिन मंे 11 किमी रोड कटती थी। अब यूपीए सरकार में यह 28 किमी प्रति किमी कट रही है। हैंडक्राफ्ट के विकास के लिए टैक्सटाइल क्षेत्र मंे सेंट्रल आॅफ एक्सीलेंसी इन हिमालयन योजना निट्रा के सहयोग से दस करोड़ के अन्तर्गत हिमालय के अंदर फाइवर की खोज की जाएगी। जिसका मुख्य उद्देश्य पर्वतीय लोगों को अधिक से अधिक रोजगार मुहैया कराना है।

About saket aggarwal

Check Also

तराई-भाबर में निजी बसों का संचालन पूरी तरह ठप

केमू की हड़ताल का तीसरा दिन, समर्थन में आये कुमाऊं भर के निजी बस संचालक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *