Breaking News
Home / Uttatakhand Districts / Dehradun / राज बब्बर ने पीएम और भाजपा अध्यक्ष से मांगा इस्तीफा

राज बब्बर ने पीएम और भाजपा अध्यक्ष से मांगा इस्तीफा

बोले, सुप्रीम कोर्ट के दो जजों कराएं मामले की जांच
बेटी बचाओ की बजाए अब बेटा बचाओ मुहिम
देहरादून। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह की कंपनी के मुनाफे को लेकर उपजे विवाद पर देशभर में गरमाई सियासत की आंच उत्तराखंड भी पहुंच गई है। इस करंट इश्यू पर कांग्रेस और भाजपा आमने-सामने आ गए हैं। मंगलवार को कांग्रेस ने इसे सियासी हथियार बनाते हुए न सिर्फ भाजपा बल्कि प्रधानमंत्री और बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह सहित रेल मंत्री पीयूष गोयल पर भी करारे हमले बोले। उत्तराखंड से राज्यसभा सदस्य और यूपी के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर ने भाजपा पर तीखे प्रहार करते हुए शाह की कंपनी की सुप्रीम कोर्ट के दो कार्यरत जजों से जांच कराने की मांग की। उन्होंने भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से नैतिकता के आधार पर इस्तीफा भी मांगा। कांग्रेस शीर्ष नेतृत्व के निर्देश पर राज बब्बर विशेष रूप से इस मामले में प्रेस कांफ्रेस करने के लिए थोड़े समय के लिए दून आए थे।
कांग्रेस प्रदेश मुख्यालय में हुई पत्रकार वार्ता में राज बब्बर ने अपने चिरपरिचत फिल्मी अंदाज में भाजपा पर तीखे डायलॉग के साथ शाब्दिक प्रहार किए। बब्बर ने कहा कि इस प्रकरण से साफ हो गया है कि भाजपा ने देश के नौजवानों को राष्ट्रवाद, गौरक्षा के नाम पर, धर्म के नाम पर बरगलाए रखा और खुद भाजपा के नेता अपने बच्चों के लिए भ्रष्टाचार की सीमा लांघ कर अधर्म करते रहे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद को गरीब, चाय बेचने वाला व बेचारा साबित कर जनता को यह जताने की कोशिश करते आ रहे हैं कि मेरे आगे-पीछे कोई नहीं। मैं देश के धन का चौकीदार हैं, मगर हैरानी की बात है कि उनकी नाक के नीचे भ्रष्टाचार हो गया। अब सवाल उठ रहा है कि प्रधानमंत्री देश के चौकीदार हैं कि इस भ्रष्टाचार में भागीदार।
उन्होंने शाह के पुत्र जय शाह की कंपनी को लेकर प्रधानमंत्री मोदी और शाह से सात सवाल भी पूछे। उन्होंने कहा कि कहा कि भाजपा का यह बेटा मॉडल आश्चर्यचकित करने वाला है। इसमें जय शाह के अंकल देश के प्रधानमंत्री हैं तो पिता सत्ता को चलाने वाली चाबी। देश का किसान कर्ज में डूबा है। आत्महत्याएं कर रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने चुनाव में कहा था कि किसान की आय दोगुनी करेंगे। अब उन्हें चाहिए कि शाह के पुत्र को किसानों को दे दें। शायद, किसान इससे आर्थिक स्थिति सुधारने का फन सीख लें। एक साल में किसी कंपनी का 16 हजार गुना मुनाफे में आने का फन आखिरकार बीजेपी के इस बेटा मॉडल से ही सामने आया है। उन्होंने सवाल उठाया कि केंद्रीय रेल मंत्री पीयुष गोयल भ्रष्टाचार के एक व्यक्तिगत मामले में किस हैसियत से आरोपी के पक्ष में खड़े हुए। गोधरा कांड का हवाला देते हुए उन्होंने अमित शाह पर चुटकी ली कि गुजरात के मोटा भाई शाह प्रलंयकारी नेता से अब भ्रष्टाचारी नेता भी हो गए हैं।
राजबब्बर ने कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्षों के भ्रष्टाचार और अन्य मामलों में आरोपित होने और फिर पद छोडऩे की परंपरा रही है। अबचाल-चरित्र की बात करने वाले कट्टर संघी अमित शाह को भी इस परंपरा को आगे बढ़ाते हुए नैतिकता के आधार पर अपने पद से इस्तीफा दे चाहिए। उन्होंने कहा कि अब यह देखना दिलचस्प होगा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी क्या नैतिक धर्म निभाएंगे, या फिर मित्रधर्म में नैतिकता का पतन होता देखना चाहेंगे। इस अवसर पर विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष डा इंदिरा हृदयेश व पीसीसी चीफ प्रीतम सिंह, मुख्य प्रवक्ता मथुरा दत्त जोशी, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता प्रमोद कुमार सिंह, पूर्व विधायक राजकुमार, लाल चंद शर्मा, पूर्व दर्जाधारी अजय सिंह, राजेंद्र शाह सहित अन्य कांग्रेसी नेता भी मौजूद रहे।

About madan lakhera

Check Also

सहयोग समूह को मिला पहला पुरस्कार

परेड मैदान में हिमान्या सरस मेले का समापन देहरादून। ग्राम्य विभाग, उत्तराखंड के हिमान्या सरस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *