Home / Breaking News / मोटाहल्दू: एक ही बारिश में गड्ढों में तब्दील राजमार्ग

मोटाहल्दू: एक ही बारिश में गड्ढों में तब्दील राजमार्ग

जान हथेली पर रख कर यात्रा करने को मजबूर यात्री व वाहन चालक

विक्की पाठक, मोटाहल्दू। जरा सी बरसात और गड्ढे ही गड्ढे, यह हाल है, उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों को जोडऩे वाली प्रमुख सड़क का। जहां सड़क कम और गड्ढे ज्यादा नजर आते हैं। इन सड़कों पर वाहन चालक और पैदल चलने वाले सभी जान हथेली पर लेकर चल रहे हैं। जिले के आला अधिकारी व राजनेता भी इन्हीं सड़कों से गुजर रहे हैं। जगह-जगह हो रहे गड्ढों ने लोगों की हालत खराब कर दी है। फिर भी सड़कों की मरम्मत व गुणवत्ता को लेकर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। गौरतलब है कि सड़कों पर लगभग 4-5 माह पहले ही मानसून पूर्व रखरखाव के तहत पेचवर्क का कार्य कराया गया था जो जरा सी बरसात में ही जवाब दे गया। विभागीय अधिकारियों की अनदेखी के चलते घटिया मरम्मत कार्य की पोल चंद दिनों में ही खुल गई। उधर मोटाहल्दू मुख्य मार्ग से गन्ना सेंटर बाईपास रोड तक की सड़क में गड्ढे ही गड्ढे नजर आते हैं। गड्ढों से छलनी हो रही सड़क आमजन को भारी पीड़ा दे रही है।

 

हादसों को न्योता
गड्ढों ने लोगों का सड़कों पर चलना मुश्किल कर दिया है। गड्ढों के कारण वाहन चालकों का संतुलन बिगड़ जाता है इससे कई बार दुर्घटनाएं हो जाती हैं। रात के समय लोगों को ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है। बाईपास रोड पर बीचोंबीच हो रहे गड्ढे दुर्घटना की स्थिति पैदा करते हैं। दोपहिया वाहन चालकों की जान सांसत में रहती है। दोपहर को गड्ढों के कारण सड़कों पर उडऩे वाली धूल व कंकड़ से लोगों की हालत खराब रहती है। वाहन चालक हो या सड़क के आसपास लगी दुकानों पर बैठने वाले सभी परेशान हैं।

 
अभी तो बनी ही थी सड़क
तीनपानी से लालकुआं के मध्य लगभग पांच-छह माह पहले सड़क में पेचवर्क कर डामर सड़क बनाई गई थी जो जरा सी बरसात में ही उखड़ गई। नवनिर्मित सड़क पर गहरे गड्ढे हो गए हैं। आसपास के लोगों ने बताया कि लाखों रुपए की लागत से हाल ही में सड़क बनाई गई थी जिस पर घटिया निर्माण के चलते गहरे गड्ढे हो गए।

 

फिर किस काम का पेचवर्क
घटिया पेचवर्क कार्य होने से सड़कों पर चारों तरफ गड्ढे नजर आने लगे हैं। नियमानुसार पेचवर्क करने वाली कम्पनी को तीन माह से पहले सड़कों पर होने वाले गड्ढों की मरम्मत का कार्य दोबारा करवाना होता है, लेकिन जिम्मेदार महकमा मरम्मत कार्य करवाने पर ध्यान नहीं दे रहा है। ऐसे में गारंटी अवधि होने के बाद भी दोबारा पेचवर्क नहीं कराए जा रहे हैं।

About saket aggarwal

Check Also

एसडीएम कॉलेज में डां0 नेगी को चीफ प्रॉक्टर का दायित्व

डोईवाला/ब्यूरो। एसडीएम डिग्री कॉलेज डोईवाला में डां0 डीएस नेगी को चीफ प्रॉक्टर का दायित्व दिया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *