Home / Uttatakhand Districts / Dehradun / स्वास्थ्य क्षेत्र में बलूनी का एक और भगीरथ प्रयास

स्वास्थ्य क्षेत्र में बलूनी का एक और भगीरथ प्रयास

उपचार के लिए नहीं जाना पड़ेगा उत्तराखंड से बाहर
एक बड़ी कार्ययोजना पर का कर रहे सांसद बलूनी
सेना व अर्द्धसैनिक बलों से पहले ही दिलवा चुके हैं सौगात
देहरादून। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख और राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी उत्तराखंड और यहां के लोगों के हितों को लेकर लगातार सक्रिय हैं। केंद्रीय स्तर पर पार्टी संगठन और सरकार में अपने संपर्कों और प्रभाव का लाभ उत्तराखंड की जनता को दिलाने का एक भी मौका वह हाथ से जाने नहीं दे रहे हैं। दून-हल्द्वानी के बीच चेयरकार ट्रेन, सेना व अर्द्धसैनिक बलों के स्वास्थ्य केंद्रों से स्वास्थ्य सुविधाओं की सौगात और दूरस्थ क्षेत्रों में आईसीयू यूनिट की सौगात देने के बाद अब उन्होंने स्वास्थ्य के क्षेत्र मंे ही उत्तराखंड को लेकर एक बड़े प्रोजेक्ट पर काम करना शुरु कर दिया है। शुक्रवार को राज्य स्थापना दिवस पर उन्होंने यह जानकारी दी। इस मौके पर उन्होंने राज्य आंदोलन के अमर शहीदों को नमन करते हुए पूर्व पीएम स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी का भी स्मरण किया।
स्वास्थ्य के क्षेत्र में निरंतर सक्रिय सांसद बलूनी ने राज्य स्थापना दिवस पर बताया कि अब वह एक बड़ी कार्ययोजना पर काम कर रहे हैं। इसके धरातल पर उतरते ही राज्य के नागरिकों को उपचार के लिए उत्तराखंड से बाहर नहीं जाना पड़ेगा। उनका उच्च कोटि का उपचार राज्य के भीतर ही संभव हो सकेगा। हालांकि, इस कार्ययोजना के मूर्तरूप लेने में कुछ वर्ष लगेंगे। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में यह कार्य उत्तराखंड के लिए मील का पत्थर साबित होगा। शीघ्र ही इस कार्ययोजना से विस्तार से अवगत कराया जाएगा। बलूनी ने कहा कि राज्य में स्वास्थ्य सबसे बड़ी समस्या है और इसके निदान के लिए निरंतर इस दिशा ने प्रयासरत हैं। इसी क्रम में अपनी सांसद निधि से प्रतिवर्ष 3 से 4 अस्पतालों को आईसीयू, वेंटीलेटर सुविधा युक्त बनाने का संकल्प किया है। सेना और अर्द्धसैनिक बलों के अस्पतालों के माध्यम से भी प्रयास किया है कि वे सामान्य नागरिकों के लिए कुछ घंटे की ओपीडी सेवा प्रदान करें। ताकि प्राथमिक उपचार का लाभ आम जनता को मिले। सांसद बलूनी ने कहा अपने संसदीय कार्यकाल में उक्त कार्ययोजना को धरातल पर लाने का प्रयास करेंगे, ताकि राज्य की जनता को उपचार के लिए राज्य से बाहर दिल्ली, चंडीगढ़, बरेली आदि शहरों को ना जाना पड़े और अपने ही राज्य में उच्च कोटि का समुचित उपचार मिल सके।

About madan lakhera

Check Also

कांग्रेस का 23 सूत्रीय ‘विजन डाॅक्यूमेंट’ जारी

पार्टी ने दिलाया निकायों के सुनियोजित विकास का भरोसा नागरिक सुविधाओं पर की विस्तार से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *