Breaking News
Home / Uttatakhand Districts / Almora / रामलीला मैदान खुर्द-बुर्द करने की साजिश पर भड़के नागरिक

रामलीला मैदान खुर्द-बुर्द करने की साजिश पर भड़के नागरिक

अल्मोड़ा। यहां धारानौला के रामलीला मैदान की भूमि में 31 सालों से रामलीला का आयोजन होता आया है। मगर अब इसको खुर्द-बुर्द कर इसमें दुकानों का निर्माण किये जाने के पालिका के प्रयासों के खिलाफ तमाम नागरिकों का गुस्सा आज फूट पड़ा। बड़ी संख्या में नागरिक यहां नगर पालिका परिशद पहुंचे, जहां उन्होंने अधिशासी अधिकारी का घेराव किया। साथ ही धारानौला के सांस्कृतिक केंद्र और मैदान को बचाने के लिए जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा।

उल्लेखनीय है कि धारानौला का ऐतिहासिक मैदान सालों से यहां होने वाले रामलीला आयोजनों व अन्य तमाम सांस्कृतिक गतिविधियों के लिए जाना जाता है। यह वह केंद्र हैं, जहां तमाम सार्वजनिक कार्यक्रम होते आयें। मुख्य रूप से यह मैदान रामलीला आयोजन के लिए प्रसिद्ध है। इस स्थान को पालिका ने अचानक अपना बताते हुए टैंडर जारी करते हुए यहां दुकानों के निर्माण का फरमान सुना दिया। जिससे तमाम स्थानीय नागरिक, रामलीला कमेटी के लोग व संस्कृति कर्मियों में आक्रोश फैल गया है। पालिका के इस फैसले के बाद हुई हंगामेदार बैठक में इस मैदान को बचाने के लिए निर्णायक संघर्श शुरू करने का ऐलान किया गया। वक्ताओं ने कहा कि धारानौला एकमात्र वह स्थान है, जहां बच्चों का खेल मैदान है, रामलीला आयोजन केंद्र है तथा तमाम सांस्कृतिक गतिविधियों का आयोजन स्थल भी है। उन्होंने कहा कि यहां होने वाले किसी भी निर्माण कार्य को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। इस स्थान को पूर्ववर्त रामलीला कमेटी को सौंप देना चाहिए। उन्होंने नगर के तमाम संगठनों से इस मैदान को बचाने के लिए आगे आने का आह्वान भी किया। बैठक की अध्यक्षता कमलेश पांडे ने की। बैठक में प्रकाश लोहनी, गिरीश धवन, राजू जोशी, कौस्तुभ, देवेंद्र भट्ट, ललित किशोर पंत, किशन गुरूरानी, कमल किशोर जोशी ने विचार रखे। इस मौके पर भूपाल मनराल, दीपक गुरूरानी, हर्श पटवा, भुवन जोशी, राजेंद्र मनराल, दिवान सिंह, गगन जोशी, पम्पी देवल, संतोश पटवा, राजेश्वरी, गोविंदी भट्ट, शेखर सिजवाली, भानू पटवा, अमित बुधोड़ी, नरेंद्र कुमार वर्मा, ब्लाक प्रमुख सूरज सिराड़ी, पूरन सिंह बिश्ट, जगदीश जोशी, हीरा सिंह पालनी, कौस्तुबानंद उप्रेती, राजेश जोशी, गिरीश धवन, युवम बोहरा, आदित्य गुरूरानी, उमाशंकर मैडी, विनीत बिश्ट, दीपक उप्रेती, भाश्कर पाण्डेय आदि मौजूद थे।

 

 

प्रकरण में शामिल लोगों पर कार्रवाई की मांग

अल्मोड़ा। नगर के विभिन्न संगठनों से जुड़े तमाम लोगों ने यहां पालिका परिशद के अधिशासी अधिकारी का भी इस मुद्दे पर घेराव किया। इस दौरान जमकर हंगामा भी हुआ। डीएम को भी इस मसले पर ज्ञापन दिया गया। ज्ञापन में कहा गया है कि सांस्कृतिक गतिविधियों के इस केंद्र में नगर पालिका गुपचुप तरीके से प्रभावशाली लोगों का कब्जा करवा रही है। यहां होली, जनमाश्टमी, नव वर्श आयोजन सहित तमाम कार्यक्रम होते हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि बिना सर्कुलेशन वाले अख़बारों में इसकी निविदा प्रकाशित कर एक साजिश की गई है। ज्ञापन में पालिका के इस निर्णय पर रोक लगाने, पूरे प्रकरण की गहराई से जांच करके इसमें शामिल लोगों को दंडित करने तथा इस स्थान को व्यवसायिक निर्माण के लिए खुर्द बुर्द करने पर सदा के लिए रोक लगाने की मांग की गई है। ज्ञापन सौंपने वालों में मनोज सनवाल, बीएस मनराल, एलके पंत, अजीत सिंह कार्की, कमलेश पांडे, प्रमोद कुमार बिश्ट, प्रकाश लोहनी, अजय बोरा, हिमांशु कांडपाल, देवेंद्र भट्ट सहित दर्जनों लोग शामिल थे।

 

 

नागरिकों के अनुसार कागजों में विवादित भूमि स्वास्थ्य विभाग की

अल्मोड़ा। दरअसल, जिस रामलीला मैदान की भूमि को लेकर पालिका व रामलीला कमेटी के बीच चल रहा विवाद है। वह प्रदर्शनकारियों के अनुसार कागजों में जिला स्वास्थ्य विभाग के नाम दर्ज है। रामलीला कमेटी के मनोज सनवाल ने कहा कि करीब सत्तर के दशक में स्वास्थ्य विभाग ने खाली पड़ी अपनी भूमि को धारानौला रामलीला कमेटी को सांस्कृतिक कार्यक्रम करने लिए दी है। उन्होंने कहा कि दूसरे की भूमि में पालिका गुपचुप तरीके से निविदा निकाल हड़पने का प्रयास कर रही है, जिसे की भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

About saket aggarwal

Check Also

हल्द्वानी:परिवार को सौंपा नेत्रदान का सर्टिफिकेट

हल्द्वानी। समाजसेविका कांता विनायक के अथक प्रयासों से अब तक 65 नेत्रदान हो चुके हैं …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *