Breaking News
Home / Breaking News / सरकारी मुआवजे पर चल रही राजनैतिक जंग

सरकारी मुआवजे पर चल रही राजनैतिक जंग

रुडक़ी। जहरीली शराब का शिकार हुए परिवारों की निगाहें अब सरकारी की ओर मुआवजे को लेकर टिकी हैं क्योंकि अधिकतर मृतकों के परिवार बेहद गरीब हैं। लोगों ने मांग की है सरकार मृतकों के परिजनों की आर्थिक रूप से मदद करे ताकि इन परिवारों का जीवनयापन हो सके। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने मृतकों को पांच-पांच लाख और बीमार हुए लोगों को दो-दो लाख का मुआवजा देने की मांग की है।

शुक्रवार को बाल्लूपुर, बिंडु खडक़, नन्हेड़ा अनंतपुर, जहाजगढ़ व मानकपुर आदमपुर के सभी ग्रामीणों की आंखें नम थीं। हर कोई मृतकों को लेकर दुख व्यक्त कर रहा था, वहीं मृतकों के परिजनों के भविष्य को लेकर चिंतित था क्योंकि मृतकों के परिवार बेहद गरीब तबके से संबंध रखते हैं। लोगों ने मृतकों के परिजनों को आर्थिक मुआवजा देने की मांग की है। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह और पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा कि मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख व बीमार लोगों को दो-दो लाख रुपये का मुआवजा दिया जाए। भगवानपुर विधायक ममता राकेश ने कहा कि सरकार को पीडि़त लोगों की मदद के लिए अधिक से अधिक मुआवजा दिलाने का प्रयास किया जाएगा। रुडक़ी विधायक प्रदीप बत्रा ने कहा कि चिकित्सकों को बीमार लोगों के इलाज में किसी भी प्रकार की दिक्कत न आने के लिए कहा गया है। वहीं जल्द ही मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से मिलकर मुआवजा दिलाया जाएगा। झबरेड़ा विधायक देशराज कर्णवाल ने भी मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिया है। बसपा के प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप बालियान ने कहा कि सरकार पूरी तरह फेल है। वह मांग करते हैं कि मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये व नौकरी दी जानी चाहिए। जिला पंचायत सुबोध राकेश ने कहा कि सरकार से मुआवजे के साथ लापरवाह अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करे।

About saket aggarwal

Check Also

किच्छा में डाक्टरों का आंदोलन जारी, मरीज परेशान

किच्छा। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के आह्वान पर गत कई दिनों से चिकित्सकों का चल रहा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *