Home / Uttatakhand Districts / Dehradun / दि हंस फाउंडेशन हॉस्पिटल जनता को समर्पित

दि हंस फाउंडेशन हॉस्पिटल जनता को समर्पित

पौड़ी जिले की स्वास्थ्य सेवाओं में जुड़ा नया अध्याय
निशुल्क स्वास्थ्य सेवाओं को मिलेगा बढ़ावा
मुख्यमंत्री ने किया हॉस्पिटल का उद्घाटन
भोले महाराज व माता मंगला भी रहीं मौजूद
सतपुली/देहरादून । स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में शुक्रवार का दिन पौड़ी जिले के लिए कुछ खास रहा। इस दिन जिले में जहां एक अति आधुनिक बड़े अस्पताल की सौगात जिले के लोगों को मिली वहीं पौड़ी चिकित्सा क्षेत्र की आधुनिक टेली रेडियोलॉजी सेवा से भी जुड़ गया।
पौड़ी जिले में सतपुली के चमोलीसैंण दि हंस फाउंडेशन जनरल हॉस्पिटल एक भव्य समारोह में पहाड़ी जनता को समॢपत किया गया। शुक्रवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भोले जी महाराज और माताश्री मंगला के साथ ही अन्य कई गणमान्य हस्तियों की मौजूदगी में हॉस्पिटल का विधिवत उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि भोले जी महाराज और माताश्री मंगला देश के गरीब तबके के जीवन को बेहतर बनाने का काम कर रहे हंै और इस मुहिम में अब दि हंस फाउंडेशन अस्पताल सतपुली का नाम भी जुड़ गया है। सीएम ने अस्पताल के मुख्य ट्रस्टी एवं दि हंस फाउंडेशन के सह संस्थापक मनोज भार्गव की सराहना करते हुए कहा कि अगर हर प्रवासी राज्य के विकास में योगदान दे तो सूबे की तस्वीर ही बदल जाएगी।
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि यह अस्पताल आसपास के क्षेत्रों के लिए ही नहीं बल्कि पूरे गढ़वाल के लिए वरदान साबित होगा। सरकारी अस्पतालों में विशेषज्ञ चिकित्सक व चिकित्सा उपकरणों के अभाव में अभी लोगों को ईलाज के लिए दिल्ली व देहरादून जाना पड़ता था, जिससे आर्थिक नुकसान के साथ ही समय की बर्बादी भी होती थी। लेकिन अब हंस अस्पताल में गरीब तबके के साथ आम लागों को बेहतर उपचार मिल सकेगा। उन्होंने आशा व्यक्त की कि पौड़ी तथा कोटद्वार के बीच इस अस्पताल के स्थापित होने से ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मिलेगी। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि यह सुपरस्पेशियलिटी अस्पताल उन सैंकड़ों सौगातों में से एक है जो माता मंगला और भोले महाराज ने सूबे के कमजोर वर्ग को दी है। उन्होंने कहा कि अगर राज्य में दो चार और माता मंगला होती तो सूबे में विकास के लिए दिल्ली की तरफ नहीं देखना पड़ता।
इस मौके पर माताश्री मंगला ने कहा कि हर सोच में एक संभावना होती है। अस्पताल निर्माण के शुरुआती दौर में लोगों को बरगलाया गया, विरोध भी हुआ पर सभी के सहयोग से आखिरकार अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस अस्पताल आम आदमी का हो गया है। उन्होंने कहा कि हंस कल्चरल सेंटर और दि हंस फाउंडेशन के जरिए विकास, सेवा व जनकल्याण की मुहिम को हर स्तर पर गति देने का प्रयास किया जा रहा है। उत्तराखंड और प्रदेश के जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए उनकी संस्थाएं हमेशा तैयार हैं। दि हंस फाउंडेशन की चेयरपर्सन श्वेता रावत ने कहा कि 8 एकड़ क्षेत्र में फैले इस अस्पताल में कुल 150 बैड की क्षमता के साथ ही विभिन्न रोगों के उपचार के लिए कई आधुनिक उपकरण एवं तकनीकियां भी उपलब्ध रहेंगी। उन्होंने कहा कि किसी भी बीमारी का अस्पताल में उपचार न होने पर मरीज को हायर सेंटर भेजने की भी व्यवस्था अस्पताल के माध्यम से ही की जाएगी।
उदघाटन समारोह में भोले जी महाराज, गढ़वाल सांसद रिटायर्ड मेजर जरनल बीसी खंडूडी, पूर्व सीएम हरीश रावत, सांसद श्रीमती माला राज्यलक्ष्मी शाह, दि हंस फाउंडेशन के सह संस्थापक मनोज भार्गव, श्वेता रावत, कैबिनेट मंत्री डॉ हरक सिंह रावत, अरविंद पांडेय, उच्च शिक्षा राज्य मंत्री डॉ धन सिंह रावत, महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री श्रीमती रेखा आर्य, संघकार्यवाहक गोपालकृष्ण, प्रदेश अध्यक्ष बीजेपी अजय भट्ट, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह, विधायक रितु खंडूरी, गणेश जोशी, आरएसएस के क्षेत्रीय प्रचारक आलोक, भाजपा के राष्ट्रीय सचिव तीरथ सिंह रावत, पूर्व सासंद बलराज पासी, उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद बिष्ट, हॉस्पिटल के प्रबंधन निदेशक मनीष पाठक, चिकित्सा अधीक्षक रिटायर्ड ब्रिगेडियर डा एचएच मिन्हास, हंस कल्चर सेंटर के प्रदेश प्रभारी पदमेन्द्र सिंह बिष्ट आदि भी मौजूद रहे।

About madan lakhera

Check Also

मिसेज इंडिया के लिए दून पहुंचीं सभी प्रतिभागी

वेलकम पार्टी में दिया अपना परिचय, पोर्टफोलियो कराया शूट आठ दिन की ग्रूमिंग क्लासेज हुई …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *