Home / Sports / … और सच हो गया सपना

… और सच हो गया सपना

उत्तराखंड का रणजी ट्राफी में हुआ पर्दापण
पहले ही मैच में बिहार को टिकवाए घुटने
देहरादून। देवभूमि उत्तराखंड ने क्रिकेट की दुनिया में गुरुवार को एक और छलांग लगा ली। बिहार के साथ मैदान में उतरते ही उत्तराखंड ने बीसीसीआई के घरेलू टर्नामेंटों के प्रतिष्ठित संस्करण रणजी ट्राफी में पर्दापण कर लिया। दून का राजीव गांधी इंटरनेशल क्रिकेट टूर्नामेंट एक बार फिर इस ऐतिहासिक उपलब्धि का साक्षी बना। उत्तराखंड को इस दिन का 18 सालों से इंतजार था।
राजीव गांधी इंटरनेशल क्रिकेट स्टेडियम में बाज सुबह नौ बजे खेल मंत्री अरविंद पांडेय ने प्रदेश के लिए इस ऐतिहासिक मैच का औपचारिकत उदघाटन किया। इस मौके पर राज्य में क्रिकेट के संचालन के लिए गठित उत्तराखंड कंससेंस कमेटी के संयोजक प्रो रत्नाकर शेट्टी सहित कमेटी के अन्य सदस्य व राज्य की क्रिकेट एसोसिएशनों के पदाधिकारी भी मौजूद रहे। इस ऐतिहासिक व यादगार मैच का लुत्फ उठाने के लिए इंटरनेशल स्टेडियम का संचालन कर देहरादून स्पोट्र्स एरिना के मीडिया एवं लायजन आफिसर मानव भंडारी ने बताया कि पहले दिन बड़ी संख्या में स्कूली बच्चों और खेल प्रेमी इस मैच का गवाह बनने के लिए स्टेडियम पहुंचे हैं। स्टेडियम में एंट्री निशुल्क रखी गई है।

बिहार ने टेके घुटने, 60 पर आॅलआउट
धपोला की घातक गेंदबाजी ने बरपाया कहर
देहरादून। उत्तराखंड ने अपने पर्दापण मैच में ही चमकीला प्रदर्शन कर रणजी ट्राफी में धमाकेदार शुरुआत की। प्रज्ञान ओझा की कप्तानी में कई अनुभवी व नामी खिलाड़ियों से लैस बिहार को उत्तराखंड ने शुरुआती डेढ़ घंटे के खेल में ही पानी पिला दिया।
गुरुवार को अपने पहले मैच में उत्तराखंड टीम के कप्तान रजत भाटिया ने टाॅस जीत कर बिहार को पहले बल्लेबाजी करने का न्योता दिया। उत्तराखंड की टीम पर रणजी में पर्दापण के साथ अच्छा प्रदर्शन का मनोवैज्ञानिक दबाव था, लेकिन मैदान में उतरते ही राज्य के खिलाड़ी न सिर्फ दबाव से मुक्त दिखे, बल्कि किसी अनुभवी व मंझी हुई रणजी टीम की तरह खेलते हुए बिहार को पल भर में घुटने टिकवा दिए। उत्तराखंड के गेंदबार दीपक धपोला की घातक गेंदबाजी के आगे बिहार चारों खाने चित्त हो गया। भोजनावकाश से पहले ही बिहार 22 ओवरों में मात्र 60 रन बनाकर पेवेलियन वापस लौट गया। उत्तराखंड के लिए दीपक धपोला ने छह विकेट चटकाए। धनराज ने दो व सन्नी ने एक विकेट लिया। बिहार का एक बल्लेबाज रनआउट हुआ। दोपहर भोजनावकाश से पहले समाचार लिखे जाने तक उत्तराखंड बिहार के 60 रनों का पीछा करते हुए एक विकेट के नुकसान पर 35 रन बना चुका था। करणवीर 25 रन बनाकर मलोलन रंगराजन के साथ क्रिज पर टिके हुए थे, जबकि विनीत सक्सेना पवेलियन वापस लौट चुके थे।
0
ये हैं टीमें
उत्तराखंड: रजत भाटिया (कप्तान), विनीत सक्सेना, मलोलन रंगराजन, करनवीर कौशल, वैभव सिंह पंवार, वैभव भट्ट, सौरभ रावत (विकेटकीपर), मयंक मिश्रा, शिवम खुराना, सन्नी कश्यप, गिरीश रतूड़ी, कार्तिक जोशी, दीपक धपोला, सन्नी राणा, धनराज शर्मा। कोच भास्कर पिल्लई, मैनेजर दीपक मेहरा, फीजियो डैनी परेरा व ट्रेनर प्रशांत पूजर।
बिहार: प्रज्ञान ओझा (कप्तान), केशव कुमार, बाबुल कुमार, समर कादरी, मोहम्मद रहमतुल्लाह, आशुतोष अमन, अनुनय नारायण सिंह, इंद्रजीत, विकास रंजन, कुमार रजनीश, हिमांशु हरि, विवेक मोहन, उत्कर्ष भास्कर, अभिजीत साकेत, सब्बीर खान। टीम प्रबंधक सुब्रतो बनर्जी व कोच प्रदीप कुमार।

बिहार: प्रज्ञान ओझा (कप्तान), केशव कुमार, बाबुल कुमार, समर कादरी, मोहम्मद रहमतुल्लाह, आशुतोष अमन, अनुनय नारायण सिंह, इंद्रजीत, विकास रंजन, कुमार रजनीश, हिमांशु हरि, विवेक मोहन, उत्कर्ष भास्कर, अभिजीत साकेत, सब्बीर खान। टीम प्रबंधक सुब्रतो बनर्जी व कोच प्रदीप कुमार।

About madan lakhera

Check Also

हल्द्वानी:रामनगर के अनुज का दिल्ली रणजी टीम में चयन

हल्द्वानी। रामनगर निवासी आशा रावत-वीरेंन्द्र पाल सिंह रावत के पुत्र अनुज रावत को दिल्ली की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *