Breaking News
Home / Breaking News / विधायक के विरोध में महिला कांग्रेस मुखर

विधायक के विरोध में महिला कांग्रेस मुखर

खोला मोर्चा
– मारपीट प्रकरण में भगत सिंह चौक पर धरना-प्रदर्शन

रुद्रपुर। मारपीट प्रकरण को लेकर महिला कांग्रेस ने विधायक राजकुमार ठुकराल के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। मंगलवार को महिला कांग्रेस ने भगत सिंह चौक पर धरना-प्रदर्शन किया। इस दौरान कहा गया कि इस प्रकरण से भाजपा व विधायक का महिला विरोधी चेहरा उजागर हो गया है।
महिला कांग्रेस की प्रांतीय उपाध्यक्ष व पूर्व पालिकाध्यक्ष मीना शर्मा के आह्वïान पर बड़ी संख्या में महिलाएं व कांग्रेस कार्यकर्ता भगत सिंह चौक पर आयोजित धरने पर पहुंचे। वक्ताओं ने कहा कि जिस तरह विधायक ने अपने घर पहुंचे फरियादियों के साथ मारपीट की है, उससे उनकी महिला विरोधी मानसिकता उजागर हो गई है। एक तरफ महिला दिवस पर विधायक ने महिलाओं को शॉल ओढ़ाकर सम्मान का ढोंग किया तो दूसरी ओर उन्होंने अपने निवास पर फरियाद लेकर आई महिलाओं को पीटा। एक ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ का नारा दे रहे हैैं तो दूसरी ओर उनके विधायक महिलाओं से मारपीट कर रहे हैं। वक्ताओं ने स्थानीय पुलिस प्रशासन पर दबाव में काम करने का आरोप लगाते हुए अभी तक विधायक की गिरफ्तारी न होने पर आक्रोश जताया। आरोप लगाया कि पुलिस के इशारे पर ही पीडि़त परिवार को धमकाया जा रहा है। तभी समझौता पत्र दाखिल कराया जा रहा है। पूर्व मंत्री तिलक राज बेहड़ ने कहा कि भाजपाई सत्ता के मद में चूर होकर काम कर रहे हैं। कांग्रेस इस मामले को विधानसभा में पूरी शिद्दत के साथ उठाएगी। महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष सरिता आर्या ने कहा कि पहले भाजपा कार्यालय में जहर खाने वाले व्यापारी को कैबिनेट मंत्री ने भगाया। अब रुद्रपुर विधायक ने सारी गरिमा को तार-तार कर अपने घर पर आई महिलाओं को पीटा। इससे साफ होता है कि भाजपा महिला विरोधी है।
यहां पर कांग्रेस महानगर अध्यक्ष जगदीश तनेजा, महिला कांग्रेस की शहर अध्यक्ष ममता नारंग, ममता रानी, शर्मिला सिरोही, उमा गोगना, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अनिल शर्मा, पुरुषोत्तम अरोरा, चंद्रसेन कोली मौजूद रहे।

मुकदमे पर अकेले पड़े विधायक
अभिषेक आनंद, रुद्रपुर। घर पर विवाद निपटाने वालों के साथ कथित मारपीट के मामले में अब शहर विधायक राजकुमार ठुकराल अकेले पड़ते नजर आ रहे हैं। प्रांतीय नेतृत्व ने जिस तरह से तल्खी दिखाई है उससे स्थानीय स्तर पर भी कार्यकर्ता विधायक के समर्थन में खुलकर बोलने से परहेज कर रहे हैं। हालात ये हैं विधायक के समर्थन में जिलाध्यक्ष ने भी ‘वर्जन’ देने की औपचारिकता ही निभाई लेकिन अब मोर्चा विधायक को खुद संभालना पड़ रहा है।
अपनी जुझारू व फायरब्रांड छवि के चलते अलग छवि बनाने वाले विधायक राजकुमार ठुकराल के लिए ये प्रकरण गले की फांस बन गया है। हालांकि इस मामले को निपटाने के लिए विधायक ने फौरी तौर पर ही प्रयास शुरू कर दिये। वे शिकायतकर्ता के घर तक पहुंच गए। इसी का परिणाम रहा कि शिकायतकर्ता ने समझौता पत्र भी दे दिया लेकिन तब तक बात दून तक पहुंच चुकी थी। विधायक का विरोधी खेमा पूरी तरह सक्रिय हो चुका था। ये बात दीगर है कि विधायक राजकुमार ठुकराल का पार्टी में ही जबर्दस्त विरोध है। ये बात अलग है कि आम जनता के बीच अपनी जुझारू छवि के चलते विधायक का ये विरोध सिरे नहीं चढ़ पाता है। पहले भी विधायक तमाम मामलों में फंसे है। तब उनके समर्थन में सडक़ों पर प्रदर्शन हुए हैं। पार्टी भी उनके साथ खड़ी नजर आई है लेकिन इस बार की स्थितियां उलट हैं। पार्टी की ओर से उनके खिलाफ नोटिस जारी हो चुका है। इसी की वजह से स्थानीय स्तर पर पार्टीजन उनके पक्ष में एकजुट नजर नहीं आ रहे हैं।

आहत विधायक ने ‘जनता दरबार’ लगाना किया बंद
इस पूरे प्रकरण से आहत विधायक राजकुमार ठुकराल ने अपने निवास पर रोजाना लगने वाले जनता दरबार को बंद कर दिया है। इस प्रकरण के बाद ही वे घोषणा कर चुके हैं कि वे अब मात्र शनिवार को ही अपने निवास पर जनता से मिलेंगे। इसके चलते अब शहर की जनता को अपने ‘सर्वसुलभ’ विधायक से मिलने में कठिनाई आ रही है। विधायक के निवास पर स्थित दफ्तर में सुबह के वक्त ताला लटका हुआ है।

About saket aggarwal

Check Also

हल्द्वानी:परिवार को सौंपा नेत्रदान का सर्टिफिकेट

हल्द्वानी। समाजसेविका कांता विनायक के अथक प्रयासों से अब तक 65 नेत्रदान हो चुके हैं …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *