Breaking News
Home / Crime / थानों में वन्य जीव खतरे में, अब गुलदार की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत

थानों में वन्य जीव खतरे में, अब गुलदार की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत

संदिग्ध परिस्थतियों में गुलदार की मौत, पीएम के बाद शव नष्ट किया

डोईवाला/ब्यूरो। थानों वन रेंज में वन्य जीवों की संदिग्ध मौत थमने का नाम नहीं ले रही है। थानों में अब एक गुलदार की संदिग्ध मौत का मामला सामने आया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार थानों वन रेंज में भोगपुर के कक्ष संख्या 1 बी में एक नर गुलदार संदिग्ध परिस्थितियों में मृत पाया गया है। शनिवार की शाम करीब पांच बजे वन विभाग को सूचना मिली कि भोगपुर क्षेत्र में एक नर गुलदार मृत पड़ा है। जिसके बाद वन विभाग की टीम ने शव कब्जे में लेकर रविवार को उसका पोस्टमार्टम करने के बाद शव को नष्ट कर दिया। वन विभाग का कहना है कि मृत नर गुलदार की उम्र करीब 7 से 8 वर्ष के करीब थी। जिसके शरीर पर रगड़ के निशान पाए गए हैं।

बताया कि गुलदार के सभी अंग सुरक्षित हैं। गुलदार का बिसरा बरेली भिजवाया जा रहा है। और पीएम रिपोर्ट एक या दो दिन में वन विभाग को मिल जाएगी। बता दें कि थानों वन रेंज अवैध शिकार और अवैध खनन का गढ बन चुका है। पिछले वर्ष 16 सितंबर को 55 नंबर वन चौकी से महज कुछ ही दूरी पर एक नर हाथी को जहर देकर मार दिया गया था। तश्कर हाथी के दांत काटकर फरार हो गए थे। बाद में एटीएफ की टीम ने हाथी दांत समेत कुछ तश्करों को पकड़ने में सफलता पाई थी। जून माह में भी कालूवाला क्षेत्र में एक हाथी की संदिग्ध मौत का मामला सामने आया था। हाथी कत्ल मामले में रेंज के बड़े अधिकारियों को बचाकर छोटे अधिकारियों को संस्पेंड कर दिया गया था। अब गुलदार की संदिग्ध मौत से साफ है कि थानों वन रेंज में वन्य जीवों पर खतरा मंडरा रहा है। पूरे मामले में रेंज के अधिकारियों और कर्मचारियों की भूमिका पर सवाल उठ रहे हैं।

किसी काम का नहीं है वन विभाग

डोईवाला। थानों वन रेंज में अवैध खनन का कारोबार खूब फल-फूल रहा है। वन्य जीव भी शिकारियों के निशाने पर हैं। जंगल बढ़ने के बजाय दिनों-दिन घटते जा रहे हैं। जिस हाथी को 55 नंबर वन चौकी के पीछे जहर देकर मारा गया था। उसकी बिसरा रिपोर्ट बरेली से अब तक नहीं आई है। तो फिर इतने सारे अधिकारी और कर्मचारी किस बात का वेतन ले रहे हैं। और ऐसे अधिकारियों को किसका संरक्षण प्राप्त है। ये एक जांच का विषय हो सकता है।

इन्होंने कहा।

थानों वन रेंज में मृत मिले गुलदार का पीएम करवाकर शव नष्ट कर दिया गया है। गुलदार के शव पर रगड़ के निशान पाए गए हैं। पीएम और बिसरा रिपोर्ट के बाद ही मौत के कारणों का पता चल पाएगा। जीएस मर्तोलिया, एसडीओ वन विभाग।

About madan lakhera

Check Also

परमार्थ निकेतन में निशुल्क स्वास्थ्य शिविर शुरु

दंत रोग, डायबिटीज और अस्थमा की होगी जांच, मिलेगा उपचार लंदन और ऋषिकेश के डाॅक्टर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *